स्वामी प्रसाद मौर्य के बाद इस्तीफों की लगी झड़ी, बीजेपी के छह विधायक पहुंचे मौर्य के घर

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों से ठीक पहले सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी को करारा झट’का लगा है. योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने मंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया है. इसके साथ ही उन्होंने समाजवादी पार्टी ज्वाइन कर ली है. उनके सपा में जाने से बीजेपी के अंदर खलबली मच गई है, वो बीजेपी के एक ताकतवर और दिग्गज नेता थे.

सूत्रों के हवाले से खबर है कि कुछ और विधायक बीजेपी का साथ छोड़ सकते है. खबरों की मानें तो यह विधायक जल्द ही सपा के साथ आ सकते है.

मौर्य के घर पहुंचे छह बीजेपी विधायक

वहीं स्वामी प्रसाद मौर्य की बात करें तो वो चार बार बीएसपी से विधायक चुने गए है. पिछले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उन्होंने बीजेपी का दामन थम पांचवी बार विधायकी हासिल की थी.

samazvadi party mourya

स्वामी प्रसाद के बीजेपी से इस्तीफे के बाद पार्टी में इस्तीफों की छड़ी लग गई है. स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे के बाद तीन और विधायकों ने बीजेपी को अलविदा कह दिया है.

एबीपी न्यूज़ की एक रिपोर्ट के अनुसार बांदा के तिंदवारी से बीजेपी एमएलए ब्रजेश प्रजापति, तिलहर विधानसभा से विधायक रोशन लाल वर्मा और बिल्हौर से भगवती सिंह सागर पार्टी को इस्तीफा सौप चुके है. रोशन लाल ने इसे लेकर कहा कि मौर्य मेरे नेता हैं और वो जैसा कहेंगे मैं वैसा करूंगा.

एबीपी न्यूज़ के अनुसार स्वामी प्रसाद मौर्य के घर अभी बीजेपी के 6 विधायक मौजूद है. वहीं सूत्रों का कहना है कि गृह मंत्री अमित शाह इस मामले की निगरानी कर रहे है.

जानकरी के मुताबिक शाह की सहमति के बाद यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य असंतुष्ट विधायकों और स्वामी प्रसाद मौर्य को मनाने में जुटे हुए है. इसके साथ ही पार्टी को हुए डैमेज को कंट्रोल करने के लिए पार्टी महासचिव सुनील बंसल और यूपी बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह भी सक्रिय हो गए है.

2 दिन बाद करेंगे रणनीति का खुलासा

वहीं स्वामी प्रसाद मौर्य का अखिलेश यादव ने एक ट्वीट करके सपा में स्वागत किया है जबकि मौर्य ने प्रेस से एक बातचीत के दौरान कहा है कि वो अपने अगले कदम का खुलासा 2 दिन बाद करेंगे.

Swami Prasad Maurya in sp

उन्होंने कहा कि अगले 2 दिन में उनके साथ कितने मंत्री, कितने विधायक और पदाधिकारी आ रहे है इसे लेकर वो सारी जानकरी देंगे.

स्वामी प्रसाद मौर्य बीजेपी से पहले बीएसपी में थे. साल 2017 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उन्होंने बीजेपी ज्वाइन की थी. वो मायावती की सरकार में मंत्री भी रहे है.

मौर्य पिछड़ी जाति के एक कद्दावर नेता है और जमीन पर अच्छी पकड़ रखते है. मौर्य की बीजेपी में एंट्री को सोशल इंजीनियरिंग का नतीजा बताया जाता था. ऐसे में पिछड़े समाज के एक बड़े नेता के भाजपा छोड़ने से बीजेपी को तगड़ा झटका लगने वाला है.

About Preet Bharatiya

Avatar of Preet Bharatiya
प्रीत हिंदी न्यूज़ कंटेंट राइटर हैं, पत्रकारिता में M.A की योग्यता रखती हैं, फिलहाल ये यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए बतौर फ्रीलांसर कार्य कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.