मोदी सरकार के कृषि कानून पर पीछे हटने के बाद, अब CAA-NRC वापस लेने की उठी मांग

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरू नानक देव की जयंती के मौके पर किसानों को बड़ी राहत देते हुए तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला लिया. केंद्र की मोदी सरकार पिछले एक साल से तीनों कृषि कानूनों को लेकर अडिग थी लेकिन अब सरकार ने इससे पीछे कदम ह’टा लिए है. इसी के साथ अब केंद्र सरकार के एक और बिल CAA (Citizenship Amendment Bill 2019) को वापस लेने की मांग एक बार फिर से उठने लगी है.

यह मांग AIMIM के मुखिया और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने उठाई है. असदुद्दीन ओवैसी इन दिनों मिशन यूपी पर हैं. वो यूपी के मुस्लिम बहुसंख्यक इलाकों में लगातार जनसभाएं और रैलियां करके लोगों को संबोधित कर रहे हैं. बीते दिन ओवैसी बाराबंकी में पहुचें. जहाँ उन्होंने एक जनसभा को संबोधित किया.

CAA को वापस लेने की उठी मांग

इस दौरान ओवैसी ने पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा. ओवैसी ने कहा कि हाय पीएम नरेंद्र मोदी जी, क्या बढ़िया एक्टिंग करते हो आप! मोदी राजनीति में गलती से आ गए है और बॉलीवुड एक्टर्स बच गए. अगर मोदी जी बॉलीवुड में होते तो बेस्ट एक्टर के सभी पुरस्कार उन्हें ही मिला करते.

assa owaisi up

यूपी के बाराबंकी जिला में इन दिनों अवै’ध मस्जिद की दिवारों को गिराने का मुद्दा गर्माया हुआ है. वहीं ओवैसी ने अपने भाषण में एक बार फिर से CAA को वापस लेने का मुद्दा उठाया. ओवैसी ने कहा कि जिस तरीके से पीएम मोदी ने कृषि कानूनों को वापस लिया है उसी तरह से मोदी जी CAA को भी वापस ले.

वहीं ओवैसी के बयान के बाद माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में एक बार फिर से CAA को लेकर जगह-जगह शाहीन बाग देखने को मिल सकते हैं. आपको बता दें कि CAA को लेकर साल 2019 में राज्यसभा और लोकसभा से पास कर इसे कानून का रूप दिया था.

इसी के साथ देशभर में कई जगहों पर धरना प्रदर्शन देखने को मिले. CAA का जमकर विरो’ध हुआ, हालाँकि कई धरना प्रदर्शनों ने हिं’सक रूप ले लिया जिसमें बसों और दुकानों को आग के हवाले तक कर दिया गया.

ओवैसी ने साधा पीएम मोदी पर निशाना

वहीं इस दौरान दिल्ली के शाहिन बाग में लगातार शांतिपूर्ण तरीके से CAA के खिलाफ वि’रोध प्रदर्शन होते है. मोदी सरकार ने इसे हटा”ने के लिए कई प्रयास किये लेकिन सरकार की कोशिशें नाकाम रही.

जिसके बाद दुनिया भर में फैली कोरोना महामारी के चलते इस प्रदर्शन को रोक दिया गया था. कोरोना के बाद से ही CAA को लेकर प्रदर्शन करने की चर्चा बंद हो गई. लेकिन अब एक बार फिर से इस पर चर्चाएं शुरू हो गई हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *