अमेरिका को पीछे छोड़ चीन बना दुनियाभर में सबसे अमीर देश, 17 गुना बड़ी संपत्ति

चीन अब दुनिया का सबसे अमीर देश बन गया है. चीन अमेरिका को पीछे छोड़ते हुए सबसे अमीर देश बना है. यह दावा Bloomberg के अनुसार मैनेजमेंट कंसल्टेंट मैकिन्जी एंड कंपनी (Management Consultant McKinsey & Company) की एक रिसर्च आर्म की एक हालिया रिपोर्ट में किया गया है. इसके अनुसार दुनिया की संपत्ति में पिछले दो दशक में भारी इजाफ़ा हुआ है, यह पहले के 2 दशक पहले के मुकाबले तीन गुना हो चुकी है.

दुनिया की कुल संपत्ति साल 2000 में 156 ट्रिलियन डॉलर थी जो अब बढ़कर 2020 में 514 ट्रिलियन खरब डॉलर पहुंच चुकी हैं. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि दुनिया भर की इस कुल संपत्ति में चीन की हिस्सेदारी करीब एक तिहाई हैं.

चीन बना दुनिया का सबसे अमीर देश

साल 2000 की बात करें तो चीन की वेल्थ तब सिर्फ 7 ट्रिलियन डॉलर थी, जिसमें भारी इजाफ़ा देखने को मिला है, 2020 में चीन की संपत्ति 120 अरब डॉलर पहुंच चुकी है.

China wealth

वहीं रिपोर्ट में अमेरिका को लेकर बताया गया है कि अमेरिका की वेल्थ दो दशक में बढ़कर दोगुनी हुई है. इसी 2000 से 2020 के बीच अमेरिकी की संपत्ति बढ़कर 90 ट्रिलियन डॉलर हो गई है.

दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाएं हैं चीन और अमेरिका, इन दोनों के पास मौजूद कुल संपत्ति में से दो-तिहाई से अधिक वेल्थ यहां के सिर्फ 10 फीसदी सबसे अमीर परिवारों के पास मौजूद हैं. इतना ही नहीं इन अमीरों की हिस्सेदारी में तेजी से इजाफ़ा हो रहा हैं.

मैकिन्जी ग्लोबल इंस्टीट्यूट जो ज्यूरिख में स्थित है, में पार्टनर जान मिश्के ने इस रिपोर्ट को लेकर कहा कि हम इससे पहले कभी भी इतने अमीर नहीं रहे थे.

china and usa

उन्होंने बताया कि मैकिन्जी ग्लोबल इंस्टीट्यूट ने यह रिपोर्ट दुनिया के 10 देशों की बैलेंस शीट के आधार तैयार की गई है. यह 10 देश दुनिया की सम्पत्ति का 60 फीसदी से अधिक इनकम को प्रदर्शित करती है.

इन टॉप दस देशों की सूचि में चीन, अमेरिका, जर्मनी टॉप तीन देश है, जबकि फ्रांस, ब्रिटेन, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, जापान, मेक्सिको भी इस लिस्ट में शामिल है. रिपोर्ट के अनुसार दुनिया की कुल संपत्ति का 68 फीसदी हिस्सा रियल एस्टेट के तौर पर मौजूद हैं.

बता दें कि चीन को विश्‍व व्‍यापार संगठन में साल 2000 से पहले ही शामिल किया गया था. चीन की अर्थव्‍यवस्‍था ने बहुत तेजी से वृद्धि की है. इसी का नतीजा है कि 20 साल बाद दुनिया में जितनी भी संपत्ति है उसमें करीब एक तिहाई हिस्‍सा चीन के पास मौजूद है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *