Fact Check: क्या वाकई बिहार के इस लड़के ने गूगल को हैक किया था या कुछ और झोल है कहानी में, देखिये रिपोर्ट

बिहार के बेगूसराय में रहने वाले इंजीनियरिंग के छात्र ऋतुराज इन दिनों देशभर में चर्चा का विषय बने हुए है. सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनों से उनके नाम के खूब चर्चे चल रहे है और चर्चे चले भी क्यों ना आखिर उन्होंने काम ही इतना बड़ा किया है. दरअसल ऋतुराज ने गूगल में एक बग यानि उसकी गलती या कमी ढूंढ निकली. यह एक ऐसी कमी थी जिससे कोई हैकर सॉफ्टवेयर में सेंधमारी कर सकता था.

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार ऋतुराज द्वारा बताई गई सिक्योरिटी बग की जानकारी को गूगल ने गंभीरता से लिया है. इसी बीच सोशल मीडिया पर ऋतुराज को लेकर कई दावे किये जा रहे है.

ऋतुराज ने किया गूगल को हैक?

सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है कि ऋतुराज ने गूगल हैक कर उसे सिक्योरिटी का पाठ पढ़ा दिया है. वहीं गूगल ने उन्हें गलती बताने के लिए नौकरी की पेशकश की है वो भी 3.66 करोड़ के सालाना पैकेज के साथ.

Rituraj Google

इतना ही नहीं सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है कि भारत सरकार ने उन्हें रातों-रात उनका पासपोर्ट बना दिया है और अब वह एक प्राइवेट जेट से अमेरिका के लिए रवाना हो रहे है.

एक फेसबुक पोस्ट में कहा गया कि देश के आईआईआइटी मणिपुर के सेकेंड ईयर के स्टूडेंट ऋतुराज चौधरी ने परसों रात गूगल को 51 सेंकड तक हैक कर लिया. 51 सेकंड बाद ऋतुराज ने पुनः गूगल को फ्री करके हुए उसे बताया कि आपकी इस गलती के चलते मैं इसे हैक कर सका.

इसके बाद अमेरिका में 12 घंटे तक मीटिंग चली जिसमें ऋतुराज को बुलाने का फैसला हुआ. ऋतुराज को मेल करके गूगल ने कहा कि हम आपकी काबिलियत को सैल्यूट करते हैं. आप हमारे साथ जुड़े, गूगल ने ऋतुराज को 3.66 करोड़ का पैकेज दिया है.

Rituraj find bug in Google

पोस्ट में बताया गया है कि ऋतुराज के पास पासपोर्ट नहीं था इसलिए गूगल ने भारत सरकार से बात की और इसके बाद सरकार ने 2 घंटे में उनका पासपोर्ट बना घर भेज दिया. आज वह प्राइवेट जेट से अमेरिका निकलेंगे.

क्या है गूगल में नौकरी का सच?

लल्लनटॉप ने इस मामले में ऋतुराज से बात की तो सोशल मीडिया पर किये जा रहे कुछ दावे झूठ निकले. ऋतुराज ने बताया कि यह सच है कि उन्होंने गूगल में बग निकाला लेकिन नौकरी की बात सच नहीं है.

उन्होंने बताया कि उन्हें गूगल की तरफ से 3.36 करोड़ पैकेज की नौकरी मिलने वाली खबर झूठ है, उन्हें ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं मिला. इसके आलावा उनके पासपोर्ट को लेकर भी गलत खबर फैलाई जा रही है, उनके पास आज भी पासपोर्ट नहीं हैं.

Rituraj Begusarai

उन्होंने कहा कि मैंने गूगल में प्राइऑरिटी 2 में एक बग ढूंढा है, जिसे गूगल ने भी ऐक्सेप्ट किया है. लेकिन इसके लिए हैकर्स शब्द का इस्तेमाल गलत हैं, बग निकालना और हैक करना दोनों अलग-अगल बातें हैं.

सोशल मीडिया पर किया जा रहा दावा निकला भ्रमक

ऋतुराज ने कहा कि गूगल ने गलती निकालने के लिए मेरा नाम मेंशन किया है. गूगल बग निकालने के लिए इनाम देता है हालांकि अभी तक उन्हें इनाम को लेकर कोई जानकारी नहीं दी गई है.

ऋतुराज ने कहा कि यह कहा जा रहा है कि मैं मणिपुर आईआईटी से पढ़ रहा हूं. जबकि मणिपुर में तो कोई आईआईटी है ही नहीं. उन्होंने बताया कि वह मणिपुर ट्रिपल आई टी से बी टेक कर आगे इजरायल या जर्मनी जाकर और पढ़ना चाहते है.

About Preet Bharatiya

Avatar of Preet Bharatiya
प्रीत हिंदी न्यूज़ कंटेंट राइटर हैं, पत्रकारिता में M.A की योग्यता रखती हैं, फिलहाल ये यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए बतौर फ्रीलांसर कार्य कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.