VIDEO: लाइव इंटरव्यू में न्यूज़ एंकर अमीश देवगन पर भड़के किसान नेता राकेश टिकैत, कहा- गलत इंटरव्यू मत चलाओ

केंद्र की मोदी सरकार के तीन कृषि कानूनों को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा ने 27 सितंबर को भारत बंद का अपवाह्न किया था, जिसका असर पूरे देश में देखने को मिला. वहीं इस मामले को लेकर हिंदी न्यूज़ चैनल न्यूज 18 इंडिया के एंकर अमीश देवगन ने भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत से बातचीत की.

इस लाइव इंटरव्यू के दौरान राकेश टिकैत उस समय नराज हो गए जब एंकर देवगन ने उनसे सवाल किया कि आपने बोला था कि आपका राजनीतिक मोटिव भी है, आप बीजेपी को वोट की चो’ट देना चाहते हैं.

अमिश देवगन पर भड़के किसान नेता

दरअसल अमिश देवगन ने इंटरव्यू के दौरान राकेश टिकैत से कहा कि लोगों को बहुत देर तक जाम में रुकना पड़ा, कुछ लोग तो अपने काम पर भी नहीं जा सके. आपकी ल’ड़ा’ई सरकार से है तो आप सरकार के साथ बातचीत को तैयार क्यों नहीं हैं?

rakesh tikait

आज भी केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने हमारे चैनल पर बयान दिया कि हम किसानों के साथ बातचीत करने के लिए तैयार हैं.

इस पर किसान नेता ने कहा कि वो गलत और झूठ बोलते हैं. वो ये बोल रहे है कि हम साफ शब्दों में बता चुके है कि कानून वापस नहीं होगा, अगर संसोधन के लिए कोई सुझाव है आपका तो आप हमको दे दो.

वो बातचीत करने के लिए तैयार नहीं है. मतलब उन्होंने जो फैसला कर ही लिया है तो क्या वो हमारी मोहर या साइन करने के लिए बातचीत करना चाहते हैं?

इस पर अमिश देवगन ने कहा कि क्या चाहते है आप? कृषि बिल लागू न हो. कृषि कानून तो वैसे भी लागू नहीं हो रहे हैं. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने भी रोक लगा दी है, अगले डेढ़ साल के लिए.

राकेश टिकैत ने जवाब देते हुए कहा कि लेकिन लागू तो होंगा ना, डेढ़ साल बाद. इसमें से एक साल से ज्यादा तो निकल ही चूका है और बाकि बचे 5 महीने बाद तो लागू होगा.

amish devgan

राकेश के इस जवाब पर अमिश ने कहा कि केंद्र कह रहा है कि अभी इसे और वक्त के लिए सस्पेंड किया जा सकता है लेकिन आप बात करने के लिए तैयार ही नहीं हैं. दूसरी तरफ आप बोलते है कि बीजेपी को वोट की चो’ट पहुंचाना जरूरी है.

बीजेपी को देंगे वोट की चो’ट

अमिश ने आगे कहा कि आप एक दबं’ग आदमी है, आपने बोला कि मेरा भी राजनीतिक मकसद है, मेरी भी राजनैतिक हैसियत होनी चाहिए. सिर्फ ये आरएलडी वालों की ही हैसियत कैसे हो सकती हैं?

इस पर राकेश टिकैत ने एंकर को टोकते हुए कहा कि नहीं… नहीं… गलत इंटरव्यू मत चलाओ. मैनें ऐसा कब कहां था बताइये? इस पर अमिश देवगन मुस्कुराने लगे और सफाई देते हुए कहते है कि फिर वोट की चो’ट का क्या मतलब है?

इस पर जवाब देते हुए राकेश टिकैत कहते हैं कि वोट की चो’ट का मतलब है कि इस बार जनता इन्हें किसी भी चुनाव में वोट नहीं देगी. अब जब हमारी और इनकी ल’ड़ा’ई बंद होती नहीं दिख रही है तो हम क्यों बोलेंगे कि भाई इन्हें वोट दे दो.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *