UP Election 2022: हर बटन दबाने से निकल रही कमल की पर्ची, लखीमपुर में मतदान रुका

उत्तर प्रदेश: यूपी में आज चौथे चरण के मतदान के चलते 9 जिलों में मतदान चल रहा है. इलेक्शन के समय ईवीएम का खराब होना आम बात है. पार्टी विशेष पर तो वैसे भी ईवीएम को है’क कर चुनाव जीतने के आरोप तो पहले ही काफी लंबे समय से लगते हुए आ रहे हैं. लेकिन आज उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में जो हुआ वह भी किसी अजूबे से कम नहीं है. यहां ईवीएम का किसी भी प्रत्याशी का बटन दबाने पर ईवीएम मशीन से भाजपा की पर्ची निकल रही है, जिसके चलते लखीमपुर में कुछ घंटों तक मतदान बाधित रहा.

BJP Flag and EVM

ईवीएम मशीन में किसी भी प्रत्याशी के चुनाव चिन्ह वाला बटन दबाने पर, भाजपा की पर्ची निकलने से आम जनता में काफी रो’ष व्याप्त है. उन्होंने ईवीएम मशीन में हेराफेरी करने के आरोप लगाए और हंगामे के बीच देर तक मतदान बाधित रहा. इसके बाद दूसरी ईवीएम मशीन लगाकर टेस्ट किया गया और तसल्ली हो गई कि यह सही काम कर रही है उसके बाद मतदान चालू किया गया.

कैसे पकड़ में आयी ईवीएम मशीन की खराबी

दरअसल लखीमपुर खीरी के फरधान थाना क्षेत्र में जब आज मतदान करने के लिए बूथ संख्या 85 पर मॉकपाल ट्रायल किय गया तो उस दौरान लोगों ने देखा कि ईवीएम मशीन का कोई भी बटन दबाने से कमल की पर्ची ही निकल रही है.

इसको लेकर मतदान प्रक्रिया को कुछ देर के लिए रोका और फिर जब तहसीलदार सदर और सेक्टर मजिस्ट्रेट डॉ. राकेश वर्मा ने मौके पर पहुंचकर मामले को समझा और वह मतदान के लिए दूसरी नई ईवीएम मशीनें लेकर दीं गयी फिर इसके बाद मतदान को शुरू किया गया.

उत्तर प्रदेश में चौथे चरण के दौरान हरदोई, बांदा, फतेहपुर, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, पीलीभीत, लखनऊ, रायबरेली, और उन्नाव में मतदान चल रहा है. यहां की टोटल 59 सीटों पर कुल 624 प्रत्याशी मैदान में उतरे हुए हैं.

बता दें, पिछली बार भाजपा के खाते में यहाँ से 50 सीटें गयीं थीं, जबकि एक सीट पर अपना दल (सोनेलाल) को जीत हासिल हुई थी और आठ सीटों में से चार पर सपा और दो-दो सीटों पर कांग्रेस और बसपा ने जीत हासिल की थी.

About भास्कर राणा

Avatar of भास्कर राणा
भास्कर वरिष्ठ पत्रकार हैं, पिछले 5 वर्षों से विभिन्न न्यूज़ संस्थानों के लिए बतौर लेखक के रूप में अपनी सेवाएं देते हैं. फिलहाल यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए एक फ्रीलांसर के रूप में कार्य कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.