आपके मोबाइल में ये 54 ऐप हों तो तुरंत कर दें Unstall , भारत सरकार ने लगाया बैन

अगर आपके मोबाइल में ये 54 एप्प हैं तो इन्हें अभी हटा दें, क्यूंकि भारत सरकार ने एक बार चीन की कारगुज़ारी को पकड़ा है. चीन द्वारा नाम बदलकर भारत में साल 2020 में प्रतिबंधित कुछ एप्स को रिलॉन्च किया गया था जिस को भारत सरकार ने फिर एक बार बैन कर दिया है.

भारत की सुरक्षा पर बढ़ते हुए इस खतरे को देखते हुए मोदी सरकार ने 54 चाइनीज ऐप पर बैन लगाया है, 2020 में सरकार द्वारा पहली बार इन चाइनीज ऐप पर बैन लगाया था, लेकिन एक बार फिर से देश हित में सुरक्षा को मद्देनज़र रखते हुए भारत सरकार ने इन 54 चाइनीज ऐप पर बैन लगा दिया है.

क्यों लगाया गया है इन एप्प पर बैन?

सरकार ने दावा किया है की ऐप्स के जरिये चीज न अन्य देशों में यूजर्स के डेटा भेजने का काम कर रहा है, 2020 में हुई हिंसक झड़प के बाद सुरक्षा पर खतरा बनी हुई पडोशी देश की ऐप पर सरकारने प्रतिबंध लगाना सुरु कीया है.

Indian Government Banned Chinies Apps

आईटी धारा 69के तहत भारत सरकार ने इन ऐप को प्रतिबंधित किया है,प्रतिबंधित ऐप्स की सूची में ज्यादातर उन ऐप्स कोलोन शामिल है इससे पहले साल 2020 में प्रतिबंधित की गई थी, भारत ने अभीतक करीबन 320 ऐसे ऐप्स पर प्रतिबंध लगाया है.

भारत और चीन के बीच बढ़ते तनाव और लदाख में एलएसी पर हुए टकराव बाद भारत ने अपनी सुरक्षा की चिंता करते हुए सबसे पहले टिकटोक यूसी ब्राउजर, शेयर इट, हेलो, लाइकी, वी चेट, ब्यूटी प्लस जैसे बडे ऐप्स और 47 मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाया था.

यूजर्स का डेटा चीनी सर्वर पर भेज रहे थे

सरकार ने एक बार फिर डेटा चोरी कर रहे ऐप्स पर शिकंजा कसा है, सूत्रों की मानें सरकार ने उन ऐप्स को भी बैन किया है, जिन ऐप पर सरकार पहले भी बैन लगा चुकी है, ऐसे एप्स को वापस नाम बदलकर भारत में रिलॉन्च किए गए थे.

सरकार ने फिर एकबार चीन की चाल को नाकाम करते हुए संदिग्ध सॉफ्टवेयर पर काम कर रहे एप्स को बैन करके अपनी सुरक्षा को मजबूत किया है.

बैन ऐप्स को गुगल-प्ले स्टोर से हटाये गए

सरकार के बैन करने पर अब बैन ऐप्स को Google Play Store और App Store से भी हटा दिया गया है. लेकिन जिन यूजर्स ने अपने मोबाइल में इन एप्स को डाउनलोड किया है उनके मोबाइल में यह काम कर रही है.

इन एप्स को यूजर्स के फोन पर री- एक्टिव मोड़ पे रखा है, जल्द ही Ministry of Electronics and Information Technology बैन किए गए ऐप्स की एक लिस्ट जारी कर सकती है.

About भास्कर राणा

Avatar of भास्कर राणा
भास्कर वरिष्ठ पत्रकार हैं, पिछले 5 वर्षों से विभिन्न न्यूज़ संस्थानों के लिए बतौर लेखक के रूप में अपनी सेवाएं देते हैं. फिलहाल यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए एक फ्रीलांसर के रूप में कार्य कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.