इस पागल से पद्मश्री छिनकर इसे गिरफ्तार कर जे’ल में डालो”: भाजपा समर्थक अभिनेत्री कंगना रनौत के आजादी वाले बयान पर भड़के उदित राज

हाल ही में बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत को देश के चौथे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्मश्री से सम्मानित किया गया है. जिसके बाद कंगना रनौत ने एक बयान देकर विवा’द खड़ा कर दिया है. कंगना का विवा’दों से पुराना नाता है. बीजेपी की समर्थक कहीं जाने वाली कंगना ने 1947  में मिली आजादी को भीख बताया. जिसके चलते वो सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आ गई है. यूजर्स इस विवा’दित बयान के लिए अभिनेत्री की कड़ी आलोचना कर रहे है.

वहीं कंगना के बयान पर राजनीतिक दलों के नेताओं की भी तीखी प्रतिक्रिया सामने आने लगी है. भारतीय जनता पार्टी के सांसद वरुण गांधी समेत विपक्षी पार्टियों के भी कई दिग्गज नेताओं ने कंगना के बयान की आलोचना करते हुए उन्हें खूब खरी-खोटी सुनाई है.

पद्मश्री छिनकर इस पागल को गिरफ्ता’र करो

इसी कड़ी में कांग्रेस नेता उदित राज ने अभिनेत्री कंगना रनौत पर तीखा हम’ला किया है. उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि बीजेपी प्रचारक पदमश्री कंगना रनौत का कहना है कि देश को आजादी 2014 मे मिली थी.

kangana ranaut

उन्होंने आगे लिखा कि आरएसएस ने 11 दिसम्बर 1948 को संविधान व डॉ. अंबेडकर साहब का पुतला जलाया था. यह लोग दलित, आदिवासी, पिछड़े एवं महिलाओं की आजादी को नहीं मानते हैं.

उदित ने एक और ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने लिखा कि मोदी सरकार ने मानसिक तौर पर बीमार कंगना रनौत को पद्मश्री सम्मान प्रदान करके संविधान, जनतंत्र और हमारे स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया है. पद्मश्री अवार्ड छिनकर इस पागल को गिर;फ़्ता’र किया जाना चाहिए.

वहीं कंगना के 1947 की आजादी को भीख बताए जाने वाले बयान की आलोचना करते हुए उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से बीजेपी के सांसद वरुण गांधी ने भी अभिनेत्री को जमकर फटकार लगाई है.

कंगना के बयान वाला वीडियो शेयर करते हुए वरुण गांधी ने अपने ट्वीट में कहा कि कभी महात्मा गांधी जी के त्या’ग और तपस्या का अपमान तो कभी उसके ह’त्या’रे का सम्मान.

यह पागलपन है या देशद्रो’ह

और अब सारी हदें पार करते हुए शहीद मंगल पाण्डेय से लेकर रानी लक्ष्मीबाई, चंद्रशेखर आज़ाद, भगत सिंह, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और लाखों स्वतंत्रता सेनानियों की कुर्बा’नियों का तिर’स्कार. इस तरह की सोच को मैं पागलपन कहूँ या फिर देशद्रो’ह?

kangana ranaut 1

आपको बता दें कि कंगना रनौत ने टाइम्स नाऊ के एक कार्यक्रम में एक विवा’दित बयान दिया जिस पर जमकर बावल मचा हुआ है. उन्होंने कहा कि आजादी अगर भीख में मिले, तो क्या उसे आजादी कहा जा सकता है?

कंगना ने आगे कहा कि हमें 1947 में जो आजादी मिली थी वो आजादी नहीं थी वो भीख थी. हमें जो आजादी मिली है वो 2014 में मिली है. कंगना के इस बयान पर मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक चौतरफा हल्ला मचा हुआ है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *