कालीचरण महाराज को ले जाने छ्त्तीसगढ़ पहुँची महाराष्ट्र पुलिस, 5 अलग-अलग थानों में केस दर्ज हैं

रायपुर। कथित कालीचरण महाराज को हाल ही में महात्मा गाँधी पर अपमा’न जनक टिपण्णी करने के आरोप में रायपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया था. यहाँ इनकी रिहाई के लिए ज़मानत भी नामंज़ूर कर दी गयी थी और उन्हें 13 जनवरी तक के लिए पुलिस हिरासत में रखने के आदेश दिए गए थे. लेकिन अब लगता है कि इन कालीचरण बाबा की मुश्किलें अभी और भी बढ़ने वाली हैं.

कालीचरण महाराज को ले जाने के लिए महाराष्ट्र पुलिस की 5 सदस्यीय टीम रायपुर पहुंची है. हो सकता है कि आज कालीचरण बाबा को प्रोडक्शन वारंट पर महाराष्ट्र के पुणे ले जाया जाए. क्यूंकि इस कथित काली पुत्र पर महाराष्ट्र के अलग-अलग थानों में 5 जगह केस दर्ज हैं.

कालीचरण महाराज को महाराष्ट्र ले जायगी ठाणे पुलिस

मीडिया में ख़बरों के अनुसार कालीचरण महाराज पर महाराष्ट्र के ठाणे पुलिस स्टेशन में धारा 295, 298 और 505 (2) के तहत इस पर मुकदमा दर्ज किया गया था.

Kathit Kalicharan Maharaj
कालीचरण

अब उन्हें केस के सिलसिले में महाराष्ट्र पुलिस की टीम रायपुर पहुंच गयी है और वहां से बाबा को ठाणे ले जाने की तैयारी की जा रही है.

बताया जा रहा है कि ये महाराष्ट्र पुलिस की 5 सदस्यीय टीम रायपुर के टिकरापारा थाना में डेरा डेल हुए है. समाचारों के मुताबिक खबर है यहाँ से जिला न्यायालय की परमीशन मिलने के बाद कालीचरण को प्रोडक्शन वारंट के आवेदन के आधार पर इसको महाराष्ट्र ले जाया जा सकता है.

कोर्ट द्वारा परमीशन मिलने के बाद, कथित कालीचरण महाराज को हवाई मार्ग या सड़क के रास्ते से महाराष्ट्र ले जाया जा सकता है. इसके बाद फिर इस बाबा को अगली पेशी पर 13 जनवरी को वापिस रायपुर कोर्ट में पेशी के लिए लाया जा सकता है.

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी पर अभद्र टिपण्णी का आरोपी है कालीचरण महाराज

जब आरोपी कालीचरण महाराज को रायपुर पुलिस ने मध्यप्रदेश के खुजराहो से गिर’फ्तार किया था और फिर उसके बाद कोर्ट में इसके पेशी की गयी थी तब ये मुस्कुरा कर कोर्ट रूम से बहार आया था.

जनसत्ता की एक खबर के अनुसार कालीचरण महाराज ने ये भी कहा था कि में गाँधी का विरोधी हूँ चाहे फां’सी पर चढ़ा दो, लेकिन मेने जो गाँधी के बारे में कहा है उस पर माफी नहीं मांगूगा.

कालीचरण महाराज की गि’रफ्तारी के बाद से उनका एक पुराना वीडियो भी खूब मीडिया में घूम रहा है जिसमें वह यह कहते हुए दीखता है कि में कोई साधु-संत या महात्मा नहीं हूँ. में जिस तरह के कपडे पहनता हूँ उसी वेशभूषा को देख लोग मुझे महाराज कहते हैं.

इस तरह के कपडे पहनना मुझे पसंद हैं, ये साधुओं के कपडे नहीं हैं. ये जारी वाला कपडा है ये कपड़े में बस फैशन के तौर पर पहनता हूँ. मुझे जिम करना पसंद है.

About भास्कर राणा

Avatar of भास्कर राणा
भास्कर वरिष्ठ पत्रकार हैं, पिछले 5 वर्षों से विभिन्न न्यूज़ संस्थानों के लिए बतौर लेखक के रूप में अपनी सेवाएं देते हैं. फिलहाल यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए एक फ्रीलांसर के रूप में कार्य कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.