दौलत से ज्यादा सादगी के लिए मशहूर था पीयूष जैन, पुराना स्कूटर, घर में कोई नौकर नहीं, 500 चाबी, 18 लॉकर, 257 करोड़ कैश

आयकर और जीएसटी विभाग ने कानपूर के एक कारोबारी के जहाँ छापा मारा है जिसमें आईटी को बड़ी तादात में नगदी बरामद हुई है. कन्नौज के इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर पर हुई यह छापामारी हर तरफ चर्चा का विषय बनी हुई है. सोशल मीडिया पर भी पीयूष जैन सुर्खियाँ में है. वहीं उनके घर से बरामद होने वाली संपत्ति और नकदी तेजी से बढती जा रही है.

Piyush Jain
Piyush Jain

वहीं सूत्रों के अनुसार अब तक 200 करोड़ रुपये से अधिक की नगदी बरामद की गई है. इतना ही नहीं आईटी को पैसा गिनने के लिए एसबीआई के अधिकारी को बुलाना पड़ा. चार से अधिक मशीनों के इस्तेमाल से पैसों की गिनती की गई.

सादगी के लिए मशहूर थे पीयूष जैन

वहीं बड़ी तादात में सोना और चांदी भी बरामद की गई है. एनडीटीवी ने अपनी एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवालों से बताया है कि पीयूष जैन ने जीएसटी अधिकारियों को पूछताछ के दौरान बताया कि उसने अपनी पुश्तैनी सोना बेचकर पिछले कई सालों के दौरान यह कैश इकट्ठा किया है.

जैन के मुताबिक वो अपना कारोबार आगे बढ़ाना चाहता था इसलिए उसने सोना बेचकर यह कैश इक्कठा किया. लेकिन पीयूष जैन यह जानकारी नहीं दे पाए कि उन्होंने यह सोना किसे और कब-कब बेचा. पीयूष के आलावा उनके दोनों बेटों से भी पूछताछ की जा रही हैं.

Cash recovered in Kanpur
Cash recovered in Kanpur

कौन हैं पीयूष जैन?

मूलरूप से कन्नौज के छिपट्टी मोहल्ले के रहने वाले पीयूष जैन एक बड़े कारोबारी है. पीयूष जैन अपनी संपत्ति के लिए नहीं बल्कि अपनी सादगी के चलते ज्यादा पसंद किये जाते है.

आपको जानकर हैरानी होगी कि जिस शख्स के घर से करोड़ों की नगदी बरामद की गई है वो आज भी कन्नौज में अपने पुराने स्कूटर के साथ ही चलता हैं. जैन के कन्नौज स्थित घर में एक पुरानी क्वालिस और एक मारुति कार है.

पीयूष जैन बहुत ही साधारण और आम आदमी की तरह ही रहते है और वो मोहल्ले में भी किसी से अधिक बात नहीं करते हैं. वहीं जब विभाग को उसके घर से बड़ी तादात में संपत्ति मिली तो कई लोग इस पर यकीन ही नहीं कर पाए.

piyush jain gold
Gold Recovered in Raid

लोगों के अनुसार पीयूष के पिता महेश चंद्र जैन पेशे से एक केमिस्ट हैं. पीयूष और उनके भाई अंबरीष ने अपने पिता महेश से ही इत्र और खाने-पीने की चीजों में मिलाने वाले एसेंस बनाने का तरीका सीखा था.

कानपूर से मुंबई, गुजरात तक फैलाया साम्राज्य

पीयूष ने पिछले 15 सालों में अपने कारोबार को तेजी से बढाया है. अब उसका कारोबार कानपुर तक सीमित नहीं रहा है, मुंबई और गुजरात में पीयूष का कारोबार फैला हुआ है. वहीं जब करोबार बढ़ा तो पीयूष ने अपने घर के आसपास के 2 मकानों को खरीद लिया.

इसके बाद पीयूष ने अपना आलीशान मकान तैयार कराया. करीब 700 वर्ग गज में फैले इस मकान को कुछ इस तरह से बनाया गया है कि इसके आसपास स्थित मकानों से इसकी बालकनी के आलावा कुछ भी नहीं दिखता है.

इस मकान में पीयूष नहीं रहता है, यहाँ उनके पिता महेश चंद्र जैन और उनका स्टाफ रहता है. यहाँ अक्सर पीयूष और उनका भाई अंबरीष आते-जाते रहते हैं. पीयूष और अंबरीष के 6 बच्चे है जो कानपूर में पढाई करते हैं.

About Preet Bharatiya

Avatar of Preet Bharatiya
प्रीत हिंदी न्यूज़ कंटेंट राइटर हैं, पत्रकारिता में M.A की योग्यता रखती हैं, फिलहाल ये यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए बतौर फ्रीलांसर कार्य कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.