किसान आंदोलन वापस नहीं होगा- राकेश टिकैत

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के तीन कृषि कानूनों के वि’रोध में पिछले एक साल से आन्दोलन कर रहे किसानों की मेहनत सफल होती नजर आ रही है. नरेंद्र मोदी सरकार किसानों के आगे झुकती दिख रही है. दरअसल मोदी सरकार ने अपने तीनों कृषि बिलों को वापस लेने का फैसला लिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशभर के किसानों से क्षमा याचना करते हुए इस फैसले की घोषणा की है. पीएम मोदी ने कहा कि शायद वो किसानों को इसके फायदे समझाने में नाकाम रहे हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इसी महीने के लास्ट में शुरू होने जा रहे संसद सत्र के दौरान केंद्र सरकार अपने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की प्रक्रिया शुरू करेगी. पीएम मोदी ने यह ऐलान शुक्रवार को गुरुनानक जी के पवित्र प्रकाश पर्व के अवसर पर किया हैं.

राकेश टिकैत ने दी प्रतिक्रिया

वहीं अब पीएम नरेंद्र मोदी के इस फैसले पर भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत की प्रतिक्रिया भी सामने आई हैं. अपने एक ट्वीट में राकेश टिकैत ने कहा कि आन्दोलन तत्काल वापस नहीं लिया जाएगा, हम उस वक्त का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसदीय प्रक्रिया द्वारा रद्द कर दिया जाएगा.

rakesh tikait

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार एमएसपी के साथ-साथ किसानों से जुड़े अन्य दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करें. बता दें कि किसान नेता राकेश टिकैत के इस ट्वीट पर लोगों की खूब प्रतिक्रिया देखने को मिल रही हैं. साथ ही लोग किसानों को कृषि बिल वापसी की जमकर बधाई भी दे रहे हैं.

किसान नेता राकेश टिकैत के ट्वीट पर कमेन्ट करते हुए विजय राज शर्मा नाम के एक यूजर ने लिखा कि जय किसान, जो लोग आन्दोलन कर रहे किसानों को आ’तंकवा’दी बता रहे थे, लेकिन आज चुनावी हार के ड’र के चलते उसी किसान के आगे मोदी सरकार झुक गई हैं. किसान आ’तं’की नहीं अन्नदाता हैं.

वहीं जय नाम के यूजर ने कहा कि टू’ट गया अभिमान, जीत गया है मेरे देश का किसान. आज किसानों को आतं’कवा’दी बोलने वालों के मुंह पर कालिख पुत गई है.

राहुल गांधी बोले- अहं’कार का सिर झुका

वहीं विकास सिंह नाम का एक यूजर लिखता है कि हमें भावनाओं में नहीं बहना होगा, हम इनके शब्दों पर भरोसा नहीं कर सकते हैं. यह लोग चीजों को पलटने में माहिल हैं, जब तक इन बिलों को संसदीय सत्र में वापस नहीं लिया जाएगा तब तक किसानों को अपना आंदोलन इसी तरह जारी रखना चाहिए.

आपको बता दें कि कृषि कानूनों की वापसी को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया है, उन्होंने लिखा कि देश के अन्नदाता ने सत्याग्रह से अ’हंका’र का सिर झुका दिया हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *