अगर रिपब्लिक का एंकर खेत में खड़े होकर चिल्ला दे तो टिड्डियां पाकिस्तान चली जाएंगी: रवीश कुमार

आज 25 सितंबर को किसानों ने भारत बंद का आह्वान किया है. वि’रोध करना और वि’रोध के शां’तिपूर्ण तरीके का चुनाव करना आपका लोकतांत्रिक अधिकार है. मेरा काम सरकार के अलावा आपकी ग़लतियां भी बताना है. आपने 25 सितंबर को भारत बंद का दिन ग़लत चुना है. 25 सितंबर के दिन फिल्म अभिनेत्री दीपिका पादुकोण बुलाई गई हैं. उनसे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो नशा-सेवन के एक अति गंभीर मामले में लंबी पूछताछ करेगा.

जिन न्यूज़ चैनलों से आपने 2014 के बाद राष्ट्रवाद की सां’प्र’दायि’क घुट्टी पी है, वही चैनल अब आपको छोड़ कर दीपिका के आने जा’ने से लेकर खाने पीने का कवरेज़ करेंगे. ज़्यादा से ज़्यादा आप उन चैनलों से आग्रह कर सकते हैं कि दीपिका से ही पूछ लें कि क्या वह भारत के किसानों का उगाया हुआ अना’ज खाती है या यूरोप के किसानों का उगाया हुआ अनाज खाती है.

ndtv ravish

बस यही एक सवाल है जिसके बहाने 25 सितंबर को किसानों के कवरेज़ की गुज़ाइश बनती है. 25 सितंबर को किसानों से जुड़ी ख़बर ब्रेकिंग न्यूज़ बन सकती है. वर्ना तो नहीं. आप भारत बंद कर रहे हैं. आपके भारत बंद से पहले ही आपको न्यूज़ चैनलों ने भारत में बंद कर दिया है.

चैनलों के बनाए भारत में बेरोज़गार बंद हैं. जिनकी नौकरी गई वो बंद हैं. इसी तरह से आप किसान भी बंद हैं. आपकी थोड़ी सी जगह अख़बारों के ज़िला संस्करणों में बची है जहां आपसे जुड़ी अनाप-शनाप ख़बरें भरी होंगी मगर उन ख़बरों का कोई मतलब नहींं होगा. उन ख़बरों में गांव का नाम होगा, आपमें से दो चार का नाम होगा, ट्रैक्टर की फोटो होगी, एक बूढ़ी महिला पर सिंगल कॉलम ख़बर होगी।.

ज़िला संस्करण का ज़िक्र इसलिए किया क्योंकि आप किसान अब राष्ट्रीय संस्करण के लायक नहीं बचे हैं. न्यूज़ चैनलों में आप सभी के भारत बंद को स्पीड न्यूज़ में जगह मिल जाए तो आप इस खुशी में अपने गांव में भी एक छोटा सा गांव-बंद कर लेना.

25 सितंबर के दिन राष्ट्रीय संस्करण की मल्लिका दीपिका जी होंगी. उस दिन जब वे घर से निकलेंगी तो रास्ते में ट्रैफिक पुलिस की जगह रिपोर्टर खड़े होंगे. अगर जहाज़ से उड़ कर मुंबई पहुंचेंगी तो जहाज़ में उनके अलावा जितनी भी सीट ख़ाली होगी सब पर रिपोर्टर होंगे. उनकी गाड़ी से लेकर साड़ी की चर्चा होगी. न्यूज़ चैनलों पर उनकी फिल्मों के गाने चलेंगे. उनके संवाद चलेंगे.

दीपिका ने किसी फिल्म में शराब या नशे का सीन किया होगा तो वही दिन भर चलेगा. किसान नहीं चलेगा. 2017 का साल याद कीजिए. संजय लीला भंसाली की फिल्म पद़्मावत आने वाली थी. उसे लेकर एक जाति विशेष के लोगों ने बवाल कर दिया. कई हफ्ते तक उस फिल्म को लेकर टीवी में डिबेट होती थी. तब आप भी इन कवरेज़ में खोए थे.

हरियाणा, मध्यप्रदेश, गुजरात सहित कई राज्यों में इस फिल्म के प्रदर्शन को रोकने के लिए हिं’सा हुई थी. दीपिका के सर का’ट लाने वालों के लिए 5 करोड़ के इनाम की राशि का एलान हुआ. वही दीपिका अब नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो जाएंगी तो चैनलों के कैमरे उनके कदमों को चूम रहे होंगे. उनकी रेटिंग आसमान चूम रही होगी. किसानों से चैनलों को कुछ नहीं मिलता है. बहुत से एंकर तो खाना भी कम खाते हैं.

उनकी फिटनेस बताती है उन्हें आपके अनाज की मुट्ठी भर ही ज़रूरत है. खेतों में टिड्डी दलों का ह’मला हो तो इन एंकरों को बुला लेना. एक एंकर तो इतना चिल्लाता है कि उसकी आवाज़ से ही सारी टिड्डियां पाकिस्तान लौट जाएंगी. आपको थाली बजाने और डीजे बुलाने की ज़रूरत नहीं होगी.

2014 से आप किसान भाई भी तो यही सब न्यूज़ चैनलों पर देखते आ रहे थे. जब एंकर गौ-रक्षा को लेकर लगातार भड़’काऊ कवरेज़ करते थे तब आपका भी तो ख़ून गरम होता था. आपको लगा कि आप कब तक खेती-किसानी करेंगे, कुछ धर्म की रक्षा-वक्षा भी की जाए. धर्म के नाम पर नफ़’रत की अफ़ीम आपको थमा दी गई. विचार की जगह तलवार भांजने का जोश भरा गया. आपको लगा कि आपकी ताकत बढ़ गई है.

जैसे ही गौ-रक्षा का मुद्दा उतरा आपके खेतों में सांडों का हम’ला हो गया. आप सांडों से फ़सल को बचाने के लिए रात भर जागने लगे. मैं गिन कर तो नहीं बता सकता कि आपमें से कितने सांप्र’दायिक हुए मगर जितने भी हुए हैं उसकी कीमत सबको चुकानी पड़ेगी. याद कीजिए जब मुज़फ्फरनगर में दं’गे हुए थे. एक घटना को लेकर आपके भीतर किस तरह से कुप्र’चारों से न’फ़रत भरी गई. आपके खेतों में दरार पड़ गई. जब आप सांप्र’दायिक बनाए जाते हैं तभी आप ग़ुलाम बनाए जाते हैं.

आज भी दो-चार अफवाहों से आपको भी’ड़ में बदला जा सकता है. व्हाट्स एप के नंबरों से जोड़ कर आपके फोन में कितने मैसेज आए होंगे कि नेहरू मुसलमान थे. जो लोग ऐसा कर रहे थे उन्हें पता है कि आपको सां’प्रदायिक बनाने का काम पूरा हो चुका है. आप जितने आंदोलन कर लो, सांप्र’दायिकता का एक बटन दबेगा और गांव का गांव भी’ड़ में बदल जाएगा. गांव में पूछ लेना कि रवीश कुमार ने बात सही कही है या नहीं.

भारत वाक़ई प्यारा देश है. इसके अंदर बहुत कमियां हैं. इसके लोकतंत्र में भी बहुत कमियां हैं मगर इसके लोकतंत्र के माहौल में कोई कमी नहीं थी. मीडिया के चक्कर में आकर इसे जिन तबकों ने ख़’त्म किया है उनमें आप किसान भाई भी हैं. आप एक को वोट देते थे तो दूसरे को भी बगल में बिठाते थे. अब आप ऐसा नहीं करते हैं. आपके दिमाग़ से विकल्प मि’टा दिया गया है. आप एक को वोट देते हैं और दूसरे को ला’ठी मार कर भगा देते हैं. जैसे ही आपकी बातों से विकल्प की जगह ख़’त्म हो जाती है, विपक्ष ख़’त्म होने लगता है.

विपक्ष के ख़’त्म होते ही जनता ख़’त्म होने लगती है. विपक्ष जनता खड़ा करती है. विपक्ष को मा’र कर जनता कभी खड़ी नहीं हो सकती है. मेरी इस बात को गाढ़े रंग से अपने गांवों की दीवारों पर लिख देना और बच्चों से कहना कि आपसे ग़’लती हो गई, वो ग़लती न करें. किसानों के पास एक ही ताकत थी कि वे किसान हैं. किसान का मतलब जनता हैं. किसान सड़कों पर उतरेगा, ये एक दौर की सख़्त चेतावनी हुआ करती थी.

अख़बार से लेकर न्यूज़ चैनल कां’प जाते थे. अब आप जनता नहीं हैं. जैसे ही जनता बनने की कोशिश करेंगे चैनलों पर दीपिका का कवरेज़ बढ़ जाएगा और आपकी पी’ठ पर पुलिस की लाठि’यां चलने लगेंगी. भारत बंद के दौरान आपको कैमरे वाले ख़ूब दिखेंगे मगर कवरेज़ दिखाई नहीं देगा. लोकल चैनलों पर बहुत कुछ दिख जाएगा मगर राष्ट्रीय चैनलों पर कुछ से ज्यादा नहीं दिखेगा. अपने आंदोलन का वीडियो बना लीजिएगा ताकि गांव में वायरल हो सके.

आपको इन चैनलों ने एक सस्ती भीड़ में बदल दिया है. आप आसानी से इस भीड़ से बाहर नहीं आ सकते. मेरी बात पर यकीन न हो कोशिश कर लें. मोदी जी कहते हैं कि खेती के तीन कानून आपकी आज़ादी के लिए लाए गए हैं. इस पर पक्ष-विपक्ष में बहस हो सकती है. बड़े-बड़े पत्रकार जिन्होंने आपके खेत से फ्री का गन्ना तोड़ कर खाते हुए फोटो खींचाई थी वे भी सरकार की तारीफ़ कर रहे हैं. मैं तो कहता हूं कि क्यों भारत बंद करते हैं, आप इन्हीं एंकरों से खेती सीख लीजिए.

शास्त्री जी के एक आह्वान पर आपने जा.न लगा दी. उन्होंने एक नारा दिया जय जवान-जय किसान. उनके बाद से जब भी यह नारा लगता है किसान की जेब कट जाती है. नेताओं को पता चल गया कि हमारा किसान भोला है. आपका यह भोलापन वाकई बहुत सुंदर है. आप ऐसे ही भोले बने रहिए. सब न्यूज़ चैनलों के बनाए प्यादों की तरह हो जाएंगे तो कैसे काम चलेगा. बस जब भी कोई नेता जय जवान-जय किसान का नारा लगाए, अपने हाथों से जेब को भींच लीजिए.

आप तो कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं. न्यूज़ चैनल चाहते तो तभी बहस कर सकते थे. बाकी किसानों को पता होता कि क्या कानून आ रहा है, क्या होगा या क्या नहीं होगा. मैंने तो कहा था कि न्यूज़ चैनल और अख़बार ख़रीदना बंद कर दें. वो पैसा आप प्रधानमंत्री राहत कोष में दे दें. जो ग़ुलाम मीडिया का ख़रीदार होता है वह ग़ुलाम ही समझा जाता है. वैसे मई 2015 में प्रधानमंत्री जी ने आपके लिए किसान चैनल लांच किया है. उम्मीद है आप वहां दिख रहे होंगे.

रवीश कुमार (एनडीटीवी के एंकर और वरिष्ठ पत्रकार)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *