आर्यन खान के समर्थन में आई शिवसेना, सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाकर उठाए एनसीबी पर सवाल

क्रूज ड्रग्स ममाले को लेकर सलाखों के पीछे बंद बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को लेकर चर्चा तेज होती जा रही है. आर्यन की जमानत याचिका पर 20 अक्टूबर को फैसला आना है. लेकिन इससे पहले इस मामले पर सियासत भी तेज होती जा रही है. अब इस मामले को लेकर बड़ी खबर सामने आई है. दरअसल आर्यन को लेकर महाराष्ट्र की सत्ताधारी शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है.

अपनी तरफ से एक याचिका दायर करते हुए शिवसेना नेता किशोर तिवारी ने इस मामले में मौलिक अधिकारों के हनन की दलील दी है. उन्होंने आरो’पियों के मौलिक अधिकारों का हवाला देते हुए सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में एनसीबी की भूमिका पर जांच करने की मांग की है.

शिवसेना ने उठाए एनसीबी की भूमिका पर सवाल

अपनी याचिका में आरोप लगते हुए शिवसेना नेता ने दावा किया है कि गलत भावनाओं के साथ एनसीबी काम कर रही है. उन्होंने कहा है कि बीते दो सालों से मशहूर और चुनिंदा फिल्मी हस्तियों को एनसीबी के अधिकारी अपने निशाने पर ले रही है.

Uddhav Thackeray

ऐसे में एनसीबी के अधिकारियों की भूमिका सवालों के घेरे में आती है और उस पर जांच होना चाहिए. याचिकाकर्ता ने कहा है कि इस मामले में सच्चाई तक पहुंचने के लिए सुप्रीम कोर्ट के जज द्वारा जांच एजेंसी एनसीबी की जांच की जानी चाहिए.

इसके साथ ही किशोर तिवारी ने शाहरुख़ खान के बेटे आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग करने की मांग भी की है. उन्होंने अपील करते हुए कहा कि इस मामले को चीफ जस्टिस एनवी रमन्ना स्वतः संज्ञान में ले.

वहीं इस मामले को लेकर शिवसेना की याचिका पर बीजेपी ने विरो’ध जाहिर किया है. बीजेपी प्रवक्ता राम कदम ने शिवसेना और उनके नेतृत्व वाली महाराष्ट्र की अघाड़ी सरकार को निशाने पर लिया है.

बीजेपी ने उठाए ठाकरे सरकार पर सवाल

कदम ने कहा कि क्या महाराष्ट्र की अघाड़ी सरकार और ड्र’ग माफियाओं के बीच कोई गहरा नाता है, जिस तरह से शिवसेना उनका बचाव करती रही है यह सवाल उठाना ही चाहिए.

Uddhav aryan

बीजेपी प्रवक्ता ने आगे कहा कि शिवसेना के नेता इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में उठा रहे हैं. बीजेपी किसी के विरो’ध में नहीं है, हम शाहरुख खान या किसी दुसरे अन्य बॉलीवुड हस्ती के विरो’ध में नहीं हैं.

उन्होंने उद्धव ठाकरे की सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि क्या महाराष्ट्र सरकार के नेताओं को सूबे के ड्र’ग्स माफियाओं से पैसे मिल रहे हैं. ऐसा हो सकता है, यही वजह हो सकती है जो शिवसेना नेता प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर हमेशा ड्रग माफियाओं के बचाव करते, उनके लिए खड़े हुए नजर आते हैं.

About Preet Bharatiya

Avatar of Preet Bharatiya
प्रीत हिंदी न्यूज़ कंटेंट राइटर हैं, पत्रकारिता में M.A की योग्यता रखती हैं, फिलहाल ये यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए बतौर फ्रीलांसर कार्य कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.