Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi | सुकन्या समृद्धि योजना

Sukanya Samriddhi Yojana In Hindi: प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना क्या है? और इसका लाभ कैसे लिया जा सकता है. आपने प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में लोगों से काफी सुना होगा. क्या आप जानते हैं कि भारत सरकार द्वारा देश की बेटियों के बेहतर भविष्य के लिए Balika Samridhi Yojana चलाई गयी है. यह योजना गारंटी के साथ Tax Free Return देने वाला एक बेहतर इन्वेस्टमेंट का ज़रिया है.

एक पिता अपनी बेटियों की अच्छी पढ़ाई और परवरिश कर सके और उनके लिए एक बेहतर भविष्य(Bright Future का निर्माण हो सके, इसके लिए आज के समय में देश में सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) से अच्छा कोई विकल्प नहीं है.

Sukanya Samriddhi Yojana In Hindi

Sukanya Samriddhi Yojana प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा, देश की बेटियों के हित में एक योजना की शुरुआत की गयी थी. इस योजना का नाम ही ‘सुकन्या समृद्धि योजना’ है.

sukanya samriddhi yojana

सुकन्या समृद्धि योजना योजना को लाने का उद्देश्य, भारतीय बेटियों को उनके पैरों पर खड़ा करना और एक बेटी के पिता पर उसकी शादी के समय की आर्थिक ज़रुरत का बोझ कम करना है.

आज कल हम देख रहे हैं कि किसी बाप के घर बेटी पैदा होना एक मुसी’बत सा बन जाती है और बेटी पैदा होना घर में एक अपराध स्वरुप माना जाने लगा है.

इस आधुनिक युग में भी बेटियों को बेटों के सामान अधिकार नहीं मिल पाते हैं. बेटियों के बड़ी हो; जाने पर उनकी पढ़ाई में लगने वाला अतिरिक्त धन कहाँ से उपलब्ध हो इन सबको ध्यान में; रखकर इस योजना को लागू किया गया है.

यह योजना उन परिवारों के लिए काफी मददगार साबित होगी जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है. कई गरीब परिवारों की बेटियां पढ़ाई से वंचित रह जाती हैं और उनका इस आधुनिक युग में जीना मुश्किल हो जाता है.

इसके अलावा बेटियों के मां-बाप को उनकी शादी में होने वाले खर्चे की भी काफी चिंता लगी रहती है. भारत की बेटियों को लेकर इस प्रकार की समस्याओं का हल निकालते हुए केंद्र सरकार ने देश में सुकन्या समृद्धि योजना की शुरूआत की.

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है? What is Sukanya Samriddhi Yojana

दरअसल Sukanya Samriddhi Yojana का मुख्य उद्देश्य बेटियों की शादी के समय उनको आर्थिक सहायता उपलब्ध कराना है, हालांकि बालिका समृद्धि योजना Balika Samridhi Yojna को काफी लचीला बनाने की कोशिश की गयी है. जिससे बेटियों को समय-समय पर वित्तीय Financial सहायता मिल सके.

Sukanya Samriddhi Yojana Hindi
Sukanya Samriddhi Yojana ki jankari

इस पोस्ट के ज़रिये आपको प्रधानमंत्री सुकन्या योजना के बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी. भारत में रहने वाले ऐसे लोग जो एक या एक से अधिक बेटी के पिता हैं, वो इस योजना का लाभ ले सकते हैं.

लेकिन इस योजना में केवल दो बेटियां को ही लाभ मिल सकता है. अगर एक पिता की दो या दो से अधिक बेटियाँ हैं तो इस योजना का लाभ केवल 10 साल या उससे कम, ज़ीरो वर्ष तक की बेटी को मिल सकता है.

Eligibility Criteria For Sukanya Samriddhi Yojana | योजना के लिए पात्रता

  • इस योजना का लाभ केवल भारतीय नागरिक ही ले सकते हैं
  • बालिका जिनका जन्म भारत देश में ही हुआ हो
  • भारत के मूल निवासी होना आवश्यक है
  • विदेश में रहने वाले भारतीय लोग इसका लाभ नहीं ले सकते
  • एनआरआई NRI के लिए भी इस योजना का लाभ नहीं मिल सकता
  • ऐसी जुड़वाँ बेटी जिनकी उम्र 10 वर्ष से कम हो उन दोनों को भी इसका अलग-अलग लाभ मिलेगा
  • बालिका के नाम का खाता Post Office में या अन्य किसी बैंक में होना ज़रूरी है
  • माता-पिता या फिर कोई दूसरा कानूनी अभिभावक 2 से ज्यादा खाते नहीं खोल सकता
  • एक कन्या के नाम एक ही खाता (Only One Account) खोला जा सकता है

सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ कैसे मिलता है?

Sukanya Samriddhi Yojana में Investment करने वालों के लिए ध्यान देना होगा की अपनी बेटी के लिए इस स्कीम को लेते समय अपनी बेटी की उम्र, उसकी पढ़ाई में लगने वाला समय और सबसे महत्वपूर्ण शादी (Marriage Timing) में लगने वाला समय जानना ज़रूरी है.

इस योजना का उद्देश्य ऐसी लड़कियों की आर्थिक मदद करना है, जिनके परिवार वालों की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं है कि वो अपनी बेटी की पढ़ाई और उसकी शादी का खर्चा उठा सकें.

सुकन्या योजना का लाभ कैसे मिलता है
Sukanya Yojna Ki JAnkari

आखिर क्या है ये योजना, कैसे आप इस योजना का फायदा उठा सकते हैं और इस योजना से जुड़ी बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी आज हम आपको देने जा रहे हैं जो आपके लिए जरुर ही मददगार साबित होगी.

केंद्र सरकार ने इस योजना Beti Bachao Beti Padhao Yojana का पूर्ण रूप से शुभारम्भ 4 दिसम्बर 2014 को किया था. जिसमे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस योजना के बारे में विस्तार से बताया था. इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको पोस्ट ऑफिस में आपकी बेटी के नाम का खाता खुलवाना अनिवार्य है, तभी इस योजना का लाभ मिलेगा.

हलाकि बाद में पोस्ट ऑफिस के अलावा कुछ और अन्य बैंको में भी खाता खुलवाना मान्य कर लिया गया है. जिसे हम जीरो बैलेंस खाता या फ्री खाते के नाम से भी जानते हैं. इनकी लिस्ट नीचे दी गयी है.

प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना के नियम

यदि आप किसी भी शासकीय योजना का लाभ लेना चाहते हैं, तो उसके लिए कुछ नियम व शर्तें Term & Condition रहती हैं. ठीक उसी प्रकार ‘प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना’ की भी कुछ नियम व शर्तें हैं.

  1. खाता बेटी के नाम से ही होना अनिवार्य है.
  2. यदि आप दो बेटियों के पिता हैं और दोनों बेटियां जुड़वा हैं तो आप दोनों बेटियों का एक अलग खाता भी खोल सकते हैं. जिसमे एक उसका जन्म प्रमाणपत्र Birth Certificate लगेगा जो आप तहसील से भी बनवा सकते हैं.
  3. आपकी बेटी की उम्र 0 से 10 साल के बीच होना अनिवार्य है.
  4. यदि आपकी बेटी 21 साल से कम (Under Age of 21) की है, और वो शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढना चाहती है तो सिर्फ बेटी ही ब्याज सहित जमा की गई राशी का आधा हिस्सा निकाल सकती है.
  5. इस राशी का उपयोग बेटी के अलावा कोई और नहीं कर सकता.
  6. ब्याज दर हर वर्ष बदलती रहती है, ब्याज दर कोई फिक्स्ड नहीं रहती है.
  7. इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको प्रति माह कम से कम 250 रूपए जमा करने होंगे.
  8. 250 के अलावा आप 1000 रूपए प्रति माह भी जमा कर सकते हैं .
  9. इस योजना में आप अपनी बेटी के सुकन्या समृद्धि योजना खाते में सालाना 1 लाख 50,000 रूपए तक जमा कर सकते हैं.
  10. बेटी के 0 से 9 वर्ष तक उसके गार्डियन को Bank Account में पैसे जमा करना अनिवार्य है. जैसे ही उनकी बेटी 10 साल की होती है, फिर वह अपने खाते को खुद भी संभाल, Manage कर सकती है.

सुकन्या समृद्धि योजना का खाता कैसे खोलें? Sukanya Samriddhi Account Online Check

सुकन्या समर्द्धि योजना के लिए खाता आप किसी भी पोस्ट ऑफिस या किसी अन्य कमर्शियल बैंक की ब्रांच; जैसे SBI में या फिर ICICI बैंक में खाता खोल सकते हैं. इसके अलावा जो आपको ऊपर बेंकों की लिस्ट; में नाम दिए गए हैं उनमे से किसी में.

जब यह योजना प्रारंभ की गई थी, तब सुकन्या समृद्धि योजना का खाता केवल पोस्ट ऑफिस में ही खोलना अनिवार्य था. लेकिन अब आप भारत की किसी भी ब्रांच (Branch) में ‘प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना’ (SSY) खाता खोल सकते हैं.

सुकन्या समृद्धि योजना की अवधि

सुकन्या समृद्धि योजना SSY अकाउंट में बेटी के नाम से एक साल में 1 हजार से लेकर 1 लाख पचास हजार रुपए तक जमा किये जा सकते हैं. यह राशि आपको खाता खुलवाने के 14 साल तक ही जमा करना होगी.

यह खाता बेटी की उम्र 21 साल पूरे होने पर ही मैच्योर होगा. लेकिन जैसा की योजना के नियमों में बताया गया है की यदि बेटी की शादी 21 साल से कम उम्र Age में होती है, तो ब्याज सहित ये रकम निकाली जा सकती है और इस रकम को बेटी की शादी में काम में लिया जा सकता है.

21 साल पूरे होने के बाद ये खाता स्वत: ही बंद (Automatic Close) हो जाएगा और पैसा पालक को मिल जाएगा. इस बात का ध्यान रखें अगर बेटी की 18 से 21 साल के बीच शादी हो जाती है तो भी ये खाता उसी वक्त बंद कर दिया जायेगा.

यदि आप प्रति महीने 250 रुपए या 1000 रुपए जमा कर महीने के जमा कर रहे हैं, और यदि वह राशी किसी भी परेशानी की वजह से जमा करने में लेट होती है तो आपको सिर्फ 50 रुपए की पैनल्टी के रूप में लगाई जाएगी.

टैक्स में भी भारी छूट का प्रावधान

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत टैक्स पर भारी छूट का प्रावधान है. जो की आयकर कानून की धारा 80-जी के तहत छूट के रूप में दी जाएगी.

यदि किसी पिता के दो बेटियां हैं तो वह दोनों के अलग अलग खाते भी खुलवा सकता है. यदि वे जुड़वाँ हैं तो जुड़वां होने पर उसका प्रूफ देकर ही पालक तीसरा खाता खोल सकेंगे और यह प्रूफ आप तहसील द्वारा भी बनवा सकते हैं.

वहीं यदि आप किसी छोटे से गाँव से हैं तो यह प्रूफ आपके गाँव का सरपंच या सेक्रेटरी भी बना सकता है. आप ‘प्रधानमंत्री सुकन्या समर्द्धि योजना’ Sukanya Yojana के खाते को पूरे भारत में कहीं भी ट्रांसफर करवा सकते हैं.

यदि आपको अब तक इस योजना के बारे में पूर्ण रूप से जानकारी नहीं हो पाई है तो आगे जरुर पढ़ें. आपकी मदद के लिए हमने इस योजना का लाभ उदहारण सहित भी समझाया है.

यदि ‘प्रधानमंत्री सुकन्या सम्रद्धि योजना’ के अंतर्गत 2015 में कोई व्यक्ति 1,000 रुपए प्रतिमाह के हिसाब से अकाउंट में जमा करता है तो उसे 14 साल तक हर साल 12 हजार रुपए के हिसाब से रकम जमा करना होगी. 14 साल में यह रकम 1.68 लाख रूपये हो जाती है.

उस समय तक मौजूदा हिसाब से उसे प्रतिवर्ष 8.6 फीसदी ब्याज मिलता रहेगा. जब बच्ची 21 साल की होगी तो उसे कुल 6,07,128 रुपए मिलेंगे.

गौर करने वाली बात यह है कि 14 सालों में पालक ने अकाउंट में कुल 1.68 लाख रुपए ही जमा कराये बाकी की रकम जो 4,39,128 रुपए है वो ब्याज के हैं.

सुकन्या सम्रद्धि योजना Documents

इस योजना (SSY) के लिए, खाता खुलवाने हेतु इन डाक्यूमेंट्स (दस्तावेजों) कि जरुरत पड़ेगी.

  • आपका आधार कार्ड
  • बेटी का आधार कार्ड
  • मूल निवासी प्रमाणपत्र
  • राशन कार्ड
  • चाइल्ड आईडी
  • फेमिली आईडी
  • 2 फोटो
  • बैंक खाते की पासबुक की फोटोकॉपी

इसके बाद जब खाता खुल जाएगा तो 2-4 दिन में ही आपको पासबुक दे दी जाएगी. इस खाते में आपको एटीएम कार्ड नहीं दिया जायेगा. यह खाता खुलने के बाद ही आप इस योजना का Formभर पाएंगे.

पासबुक मिलने के बाद आप तहसील या कलेक्ट्रेट या किसी अन्य ऑनलाइन सोर्स से ‘प्रधानमंत्री सुकन्या सम्रद्धि योजना’ (SSY) का फॉर्म लेकर अच्छी तरीके से पूर्ण रूप से भरकर जमा कर दें.

Sukanya Yojana Interest Rate 2020 | सुकन्या समृद्धि योजना इंटरेस्ट रेट

Sukanya Samriddhi Yojana Interest Rate 2019 इस योजना, जिसका नाम ‘प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना’ (PMSSY) है, इसके बारे में ब्याज दर पहले भी बता चुके हैं. इस योजना में जो ब्याज मिलता है वह सरकारी सेविंग अकाउंट और Saving Bank से काफी ज़्यादा होता है.

  • 2018 में ‘प्रधानमंत्री सुकन्या सम्रद्धि योजना की ब्याज दर व्याज दर (Interest Rate) 8.1%
  • 2019 प्रधानमंत्री सुकन्या सम्रद्धि योजना Interest Rate 8.5%

2018 में इस योजना की व्याज दर 8.1 रही, लेकिन साल 2018 के अंत तक इसको बढ़ा दिया गया. वर्तमान में वर्ष 2019 में इस योजना की व्याज दर 8.5 चल रही है.

केंद्र सरकार इस योजना पर बड़ी ही गहराई से ध्यान दे रही है. इस योजना में कई बदलाव इसीलिए भी किये जा रहे हैं जिससे देश के नागरिक ज्यादा से ज्यादा इनका फायदा ले सकें.

Tax Benefits Of Sukanya Samriddhi Yojana

सुकन्या समृद्धि खाते की रकम पर टैक्स छूट के नियम

Sukanya Samriddhi Yojana को भारतीय लोगों के लिए इतना लचीला बनाया गया है; जिससे उन्हें इस योजना का लाभ लेने में किसी प्रकार का झंझट न लगे.

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत टैक्स छूट में Exempt-Exempt-Exempt-EEE वाली बचत को रखा गया है. इसका मतलब है कि इस खाते में अभिभावक द्वारा जो पैसा हर साल जमा किया जायेगा, वो सेक्शन 80 के तहत टैक्स छूट के दायरे में आयेगा.

इस खाते में जमा रकम पर मिलने वाली ब्याज की राशी पर किसी भी तरह का टेक्स नहीं लगेगा.

यहाँ तक की इस खाते के पूरे पकने की अवधि में मिलने वाली मेच्योरिटी रकम भी टैक्स फ्री रहेगी.

सेक्शन 80 सी के तहत टैक्स छूट के नियम

इनकम टैक्स एक्ट के अनुसार सेक्शन 80 सी के हिसाब से धारक को कुछ निश्चित निवेश विकल्पों के लिए प्रतिवर्ष; लगभग 1.5 लाख रुपए तक के जमा पर टैक्स छूट मिलती है.

लेकिन ध्यान देने वाली बात ये भी है कि ये 1.5 लाख रुपए, उन सारी योजनाओं को मिलाकर के ही होना चाहिए. अलग अलग तरह की योजनाओं में यानी के जो 1.5 लाख रुपए से ऊपर ऐसी रकम फिर टेक्स के दायरे में ही आयेगी.

Sukanya Samriddhi Yojana Offline Form Process

हमारे देश में अधिकतर लोग अल्प ज्ञान होने की वजह से, ऑनलाइन प्रक्रिया को अभी; तक ठीक तरह से नहीं समझ पाए हैं.

इसके लिए सरकार ने ऑनलाइन के अलावा ऑफलाइन सुविधा भी दी है. जिससे कोई भी नागरिक; नजदीकी बैंक (Nearest Bank) या पोस्ट ऑफिस में जाकर इस योजना का लाभ ले सकता है.

बच्ची के माता-पिता या कानूनी (Legal) रूप से पैरंट्स, जो अपनी बच्ची का भविष्य सुरक्षित करना चाहतेहैं. वह अपने नजदीकी Post Office या बैंक में जाकर इस फॉर्म को प्राप्त कर सकते हैं.

आवेदन फार्म को प्राप्त करने के बाद उसमें सारी जानकारियां जैसे, के जन्मतिथि, नाम, पता, फोन नंबर इत्यादी ठीक तरह से भरें.

अब इस योजना में लगने वाले अन्य Documents जैसे राशन कार्ड, आधार कार्ड, बैंक खाते की पासबुक Bank Passbook इन सबकी फोटोकॉपी इस फार्म के साथ जमा कर दें.

फार्म जमा करने से पहले एक बार और अच्छी तरह ये सुनिश्चित ज़रूर कर लें कि सभी जानकारियां सही से भरी गयीं हैं अथवा नहीं.

सभी कागजात जमा करवाने से पहले इन सबकी एक-एक प्रती फोटोकॉपी करवाकर अपने पास रिकॉर्ड रखें.

जब सभी दस्तावेज आप काउंटर पर जमा कराते हैं, इसके बाद Post Office मैनेजर या बैंक मैनेजर Bank Manager आप के कागजातों को चेक करके आपको इस योजना से सम्बंधित खाता खोल दिया जाता है.

About Preet Bharatiya

Avatar of Preet Bharatiya
प्रीत हिंदी न्यूज़ कंटेंट राइटर हैं, पत्रकारिता में M.A की योग्यता रखती हैं, फिलहाल ये यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए बतौर फ्रीलांसर कार्य कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.