पाकिस्तान पर भी हावी होने लगा तालिबान, Female Teachers को नया फरमान जारी

इमरान खान का नया पाकिस्तान तालिबान की राह पर चलता नजर आ रहा है. ब’लात्का’र को महिलाओं के कपड़ों के साथ जोड़ने वाले इमरान खान ने एक और बेतुका और तालिबानी फरमान जारी किया है, जिसकी हर तरफ कड़ी आलोचना हो रही हैं. पाकिस्तान के संघीय शिक्षा निदेशालय (FDE) ने एक फरमान जारी करके महिला टीचर्स के जींस पहनने पर प्रतिबं’ध लगा दिया है.

FDE ने एक अधिसूचना जारी करते हुए महिला टीचर्स को आदेश दिया है कि वो जींस और टाइट कपड़े न पहने. इसके साथ ही पुरुष शिक्षकों पर भी कुछ इसी तरह का प्रतिबंध लागू किया गया है. उन्हें कहा गया है कि वो जींस और टी-शर्ट पहनकर स्कूल-कॉलेज नहीं आए.

फरमान से शिक्षकों में नाराजगी

एक्सप्रेस ट्रिब्यूनल की एक रिपोर्ट के अनुसार इस मामले को लेकर सोमवार को शिक्षा निदेशक ने सभी स्कूल और कॉलेजों के प्रिंसिपल्स को एक लैटर भेजा है. इस पत्र में यह सुनिश्चित करने के आदेश दिये गए है कि उनके स्टाफ का हर सदस्य सलीके के कपड़े पहनकर संस्थान में आए.

jeans

साथ ही यह भी कहा गया है कि वो खुद भी अच्छी तरह से पेश आए. वहीं इस फरमान को लेकर शिक्षकों में भारी रो’ष देखने को मिल रहा है.

इतना ही नहीं संघीय शिक्षा निदेशालय ने अपने पत्र में कुछ और निर्देश भी दिए है. इसमें नियमित तौर से बाल कटवाने, दाढ़ी बनवाने, नहाने, नाखून काटने और इत्र के इस्तेमाल से जुडी बातें भी कही गई है.

पत्र में यह भी कहा गया है कि पाकिस्तान में इन नियमों का पालन शिक्षकों द्वारा ऑफिस वक्त के दौरान तो करना ही होगा, साथ ही परिसर में और यहां तक कि आधिकारिक सभाओं और बैठकों के दौरान भी इनका पालन करना होगा.

पत्र में सिफारिश की गई है कि प्रयोगशालाओं में सभी शिक्षण कर्मचारी लैब कोट के अंदर टीचिंग गाउन पहनना होगा. शिक्षकों के साथ स्कूलों और कॉलेजों के गेट कीपर और सहायक कर्मचारियों के लिए भी ड्रेस कोड तय किया गया है.

पत्र के मुताबिक महिला शिक्षकों को साधारण सलवार कमीज, दुपट्टा/शॉल के साथ ही अना होगा उन्हें जींस या टाइट्स पहनने की अनुमति नहीं होगी.

रिपोर्ट्स के अनुसार पर्दा करने वाली महिलाओं को स्कार्फ/हिजाब पहनने की अनुमति दी गई है. वहीं सर्दियों के मौसम के लिए भी ड्रेस कोड जारी किया गया है.

सर्दियों में महिला शिक्षक कोट, ब्लेज़र, जर्सी, स्वेटर, कार्डिगन और शॉल पहन कर आ सकती है लेकिन यह सभ्य रंगों और डिजाइन के होना चाहिए. बता दें कि बीते दिनों पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने कहा था कि महिलाओं के कपड़ों के चलते ही बला’त्कार के मामले बढ़ रहे हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *