रैली-रोड शो जुलूस पर रोक, 28 दिन तक चलेगा सत्ता का संग्राम, किसका नफा किसका नुकसान ?

चुनाव आयोग ने पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान कर दिया है. मतदान की तारीखों के साथ चुनाव आयोग ने आगमी चुनाव में सुरक्षित मतदान के लिए कई बड़े ऐलान भी किये है. उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनाव होने वाले है. इसके साथ ही चुनाव आयोग ने फ़िलहाल रैलियों पर पाबंदी लगा दी है.

चुनाव आयोग ने कहा है कि 15 जनवरी तक कोई भी चुनावी रैली का आयोजन, रोडशो, पदयात्रा या साइकिल यात्रा नहीं की जाएगी. इसके आलव रात 8 बजे से सुबह 8 बजे तक कोई चुनाव रैली का आयोजन नहीं होगा.

रैली, रोडशो और पदयात्रा पर रोक

सार्वजनिक स्थानों पर कोई नुक्कड़ सभा या जनसभा करने की इजाजत नहीं होगी. इसके आलावा मतगणना होने के बाद किसी भी तरह के विजय जुलूस निकालने की अनुमति नहीं होगी.

election commision

चुनावों के दौरान कोरोना नियमों का कड़ाई से पालन किया जाएगा. निर्वाचन अधिकारियों को नियमों की अनदेखी में कार्रवाई के अधिकार रहेंगे.

इसके साथ ही वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने वाले कर्मियों को चुनावी ड्यूटी में रखा जाएगा. इसके आलावा उन्हें प्रिकॉशन यानी बूस्टर डोज लगाने की सिफारिश भी आयोग द्वारा की गई है ताकि वो सुरक्षित रहे.

चुनाव आयोग ने कहा है कि वो स्वास्थ्य सचिवों के साथ मिलकर वैक्सीनेशन स्टेटस पर निगरानी करेगा. इसके साथ ही मतदान के समय में एक घंटे की बढ़ोत्तरी भी की गई है. हालांकि इसकी विस्तार से जानकारी चुनाव अधिसूचना के दौरान दी जाएगी.

बढ़ाए गए पोलिंग बूथ

इस बार चुनाव में उम्मीदवारों को ऑनलाइन नामांकन दर्ज कराने की सुविधा भी होगी, जिससे निर्वाचन कार्यालय में लगने वाली भीड़ से बचा जा सके.

no raily and rodshow

वहीं पोलिंग बूथ पर भी’ड़ ज्यादा ना हो, इसलिए 1500 की जगह 1250 वोटर होंगे. इस बार चुनाव आयोग ने 16 फीसदी पोलिंग बूथ बढ़ाने का फैसला किया है.

चुनाव आयोग ने दागी उम्मीदवारों को लेकर बड़ी घोषणा की है. मुख्य चुनाव अधिकारी ने कहा कि दागी उम्मीदवारों को अख़बारों में अपने आपराधिक मामलों की जानकरी प्रकाशित करना होगी वो भी तीन बार. जबकि पार्टियां इसकी जानकारी अपनी वेबसाइट पर डालेंगी.

28 दिन चलेगा चुनावी दंगल

मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि पांचों राज्यों में विधानसभा चुनाव सात चरणों में संपन्न कराए जाएंगे. जबकि मतगणना के लिए 10 मार्च का दिन तय किया गया है. पहला चरण 10 फरवरी को होगा तो वहीं अंतिम चरण 7 मार्च को होगा.

indian leader

उत्तर प्रदेश में 7 चरणों के दौरान मतदान कराया जाएगा. जो 10 फरवरी से 7 मार्च तक होगा. वहीं पंजाब, उत्तराखंड और गोवा राज्य में एक ही चरण में मतदान होगा, यहां वोटिंग 14 फरवरी को होगी.

हालांकि पंजाब जैसे राज्य में एक चरण में मतदान करना बेहद चुनौतीपूर्ण माना जा रहा है. वहीं मणिपुर की बात की जाए तो यहां दो चरणों के तहत 27 फरवरी और 3 मार्च को वोटिंग होगी. सभी राज्य के चुनावी नतीजे 10 मार्च को आएंगे.

चुनावी प्रचार पर खर्च की सीमा बढ़ी

पांच राज्यों में 690 विधानसभा सीटों मौजूद है जिसमें 18.34 करोड़ मतदाता इस चुनावी उत्सव में हिस्सा लेंगे. इसके लिए दो लाख 15 हजार से ज्यादा पोलिंग बूथ तैयार किये जाएंगे. इस चुनाव उत्सव में पहली बार वोट डालने वालों की तादात 28 लाख के करीब है.

इसके साथ ही चुनाव आयोग ने उम्मीदवारों द्वारा प्रचार पर खर्च की जाने वाली राशि की सीमा में इजाफ़ा किया है. अब उम्मीदवार अपने प्रचार पर बड़े राज्यों में विधान सभा चुनाव लड़ने के 28 लाख के बढ़ाकर 40 लाख और केंद्र शासित प्रदेशों और छोटे राज्यों में 20 लाख रुपये से बढ़ाकर 28 लाख तक खर्च कर सकेंगे.

About Preet Bharatiya

Avatar of Preet Bharatiya
प्रीत हिंदी न्यूज़ कंटेंट राइटर हैं, पत्रकारिता में M.A की योग्यता रखती हैं, फिलहाल ये यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए बतौर फ्रीलांसर कार्य कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.