चारों ओर से हताश हुए यूक्रेन ने भारत से लगाई मदद की गुहार, जानिए क्या माँग हैं Ukraine की

यूक्रेन और रूस के बीच जारी आंशति थमने का नाम ही नहीं ले रही है, इसके उल्‍ट संघर्ष लगातार तेज होता जा रहा है. रूस और यूक्रेनी सेना के बीच चल रही जं’ग में लाखों नागरिक फंसे हुए है जिनके लिए न सिर्फ यूक्रेन बल्कि दुनिया भर में चिंता है. इसके आलावा यूक्रेन में अभी भी बड़ी तादात में विदेशी नागरिक फंसे हुए है, जिनमें भारतीय नागरिक भी शामिल है. इसी बीच यूक्रेनी सरकार ने रूस से यु’द्घ रोकने की अपील की है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यूक्रेनी विदेश मंत्रालय ने रूसी सरकार से अपील की है कि वो खारकीएव और सुमी में जारी हम’लें रोके.

यूक्रेन ने लगाई भारत, पाक और चीन से मदद की गुहार

जिससे वहँ मौजूद नागरिकों को जं’ग के मैदान से सुरक्षित निकाला जा सके. यूक्रेनी सरकार के आनुसार इस इलाके में फंसे नागरिकों में बड़ी संख्‍या में विदेशी छात्र भी शामिल हैं.

ukraine government

देर रात यूक्रेन के विदेश मंत्रालय ने अपने एक ट्वीट में चीन, भारत, पाकिस्‍तान और अन्‍य देशों की सरका‍रों से अपील की है कि वो भी रूस से इस संबंध में मांग करें.

यूक्रेनी विदेश मंत्रालय ने ट्वीट में अपील करते हुए लिखा कि यूक्रेनी सरकार भारत, चीन, पाकिस्‍तान और अन्‍य राष्‍ट्रों की सरकारों से अपील करते हैं कि वो अपने छात्रों की सुरक्षित निकासी के लिए रूस से मानवीय कॉरिडोर की मांग उठाए.

मंत्रालय का कहना है कि रूस के हम’लों के चलते बड़ी संख्‍या में छात्र खारकीएव और सुमी में फँसे हुए हैं. बुधवार को भारत ने खारकीएव में रहने वाले अपने नागरिकोंं से उस इलाके को तत्‍काल छाेड़ने के लिए कहा था.

आपको बता दें कि भारत के एक छात्र नवीन की दो दिन पहले इसी शहर में गो’लाबारी में मौ’त हो गई थी. भारत सरकार अपने नागरिकों को यूक्रेन से निकालने के लिए ऑपरेशन गंगा के तहत काम कर रही है.

भारतीय छात्रों को बंधक बानाए जाने की खबर गलत

सरकार यूक्रेन के अलग-अलग शहरों से छात्रों को निकालने पर काम कर रही है, लेकिन अभी भी यह माना जा रहा है कि वहँ कई ना‍गरिक फंसे हुए है. भारतीय विदेश मंत्रालय के आनुसार करीब 17 हज़ार नागरिकों को यूक्रेन की सीमा से निकाला जा चुका हैं.

ukraine and modi

गुरूवार को भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर भारतीय छात्रा को बंधक बनाये जाने की खबरों को खारिज कर दिया है, मंत्रालय ने कहा कि यूक्रेन में किसी भी भारतीय छात्र के बंधक बनाने की खबर नहीं है.

इसके साथ ही भारत सरकार ने यूक्रेन के अधिकारियों से समर्थन का अनुरोध किया है. ऐसा दावा किया जा रहा है कि हजारों की तदात में अभी भी भारतीय छात्र खारकीएव में फंसे हुए हैं.

About Preet Bharatiya

Avatar of Preet Bharatiya
प्रीत हिंदी न्यूज़ कंटेंट राइटर हैं, पत्रकारिता में M.A की योग्यता रखती हैं, फिलहाल ये यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए बतौर फ्रीलांसर कार्य कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.