यूपी चुनाव: बीजेेपी को टक्‍’कर देने के लिए शिवसेना ने किया ऐलान, भाजपा में मची खलबली

उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले है, जिसे लेकर अभी से तैयारियां जोर पकड़ चुकी है. सूबे के चुनावी मैदान में उतरने के लिए सभी दलों ने अपनी कमर कस ली है. देश के सबसे बड़ी आबादी वाले राज्य में अभी भारतीय जनता पार्टी की सत्ता है जिसका नेतृत्व सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा किया जा रहा है. सूबे में बीजेपी अपना गढ़ बचाने के लिए पूरा जोर लगा रही है.

वहीं दूसरी तरफ बीजेपी को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाने के लिए सभी विपक्षी दल सियासी रणनीति तैयार करने में जुट गए है. इस बार के यूपी विधानसभा चुनाव के दौरान कड़ा मुकाबला देखने को मिलेगा.

शिवसेना के ऐलान से ख’तरे में बीजेपी का वोट बैंक

दरअसल इस बार यूपी विधानसभा में कई अन्य राज्यों के छोटे-बड़े दल भी बड़े पैमाने पर हिस्सा लेने जा रहे है जो यकीनन बीजेपी की मुश्किलें बढ़ा सकते हैं.

uddhav

हाल ही में हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी यूपी चुनाव में हाथ अजमाने की घोषणा की थी. इसके बाद अब महाराष्ट्र की सत्ता में काबिज शिवसेना ने भी यूपी के चुनावी दंगल में उतरने के लिए ताल ठोक दी है.

आपको बता दें कि शिवसेना ने घोषणा की है कि वो उत्तर प्रदेश में विधानसभा की सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. शिवसेना का यह ऐलान बीजेपी के लिए चिं’ताजनक माना जा रहा है.

राजनीतिक वविशेषकों का मानना है कि शिवसेना बीजेपी के वोट बैंक में सेंध लगा सकती हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार शिवसेना के संगठन की प्रांतीय कार्यकारिणी की बैठक के दौरान यह फैसला लिया गया है.

शिवसेना ने यह ऐलान करते हुए बीजेपी पर आरोप लगाया कि योगी सरकार के शासन के दौरान कानून व्यवस्था पूरी तरह से फेल रही है.

सभी सीटों पर शिवसेना ठोकेगी ताल

भाजपा शासन में बहन बेटियां तक सुरक्षित नहीं है. सूबे में कानून व्यवस्था को बनाए रखने में सक्षम और सशक्त सरकार की जरूरत है इसलिए शिवसेना ने राज्य की सभी सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला लिया है. शिवसेना राज्य को एक मजबूत सरकार देंगी.

पार्टी के प्रदेश प्रमुख ठाकुर अनिल सिंह ने दारुलशफा में हुई बैठक के बाद कहा कि उत्तर प्रदेश में सरकार ब्राह्मणों के साथ सम्मानजनक और अच्छा व्यवहार नहीं कर रही है.

उन्होंने यह भी कहा कि सूबे में चिकित्सा और शिक्षा व्यवस्था की स्थिति बेहद ही खराब हो चुकी है. जनता बेरोजगारी और महंगाई की मा’र से त्रस्त हो चुकी हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *