गृहमंत्री अमित शाह ने Zee न्यूज़ के पत्रकार को फटकार लगायी, बोले ‘ज़ी टीवी तुम अपनी कामेंट्री बंद करो, जो कह रहा हूँ वो सुनो

उत्तर प्रदेश: भारतीय जनता पार्टी यूपी की सत्ता में फिर से काबिज होने के लिए अपना पूरा जोर लगा रही है. गृह मंत्री अमित शाह भी खूब जोर आजमाइश करते दिख रहे है, बीजेपी को जमीनी स्टार पर मजबूत करने और मतदाताओं को अपनी पार्टी की तरफ रिझाने के लिए वह लगातार कई जनसभाओं को संबोधित कर रहे हैं. उनके एक संबोधन का वीडियो भी सोशल मीडिया पर सामने आया है जो खूब वायरल हो रहा हैं.

इस वीडियो में अमित शाह ज़ी टीवी के एक पत्रकार को देखते हुए कुछ बोलते नजर आ रहे है. जिसे लेकर सोशल मीडिया पर लोग खूब प्रतिक्रियां दे रहे हैं.

ज़ी न्यूज़ अपनी कमेंट्री बंद करो

गृहमंत्री अमित शाह इस वीडियो में कहते दिख रहे हैं कि मेरे साथ बोलिए ZEE टीवी अब तुम्हारी कमेंट्री बंद कर दो.. और बैठ जाओ नीचे.. नीचे बैठ जाओ.. बैठ जाओ भैया ऐसा कह रहा हूं.

गृहमंत्री अमित शाह
इमेज सोर्स: गूगल

अमित शाह के इस वीडियो को सोशल मीडिया पर जमकर शेयर किया जा रहा है, इस यूजर्स इस पर मजे लेते हुए भी नजर आ रहे हैं.

कई यूजर्स अमित शाह को खरी खोटी सुनाते नजर आ रहे है तो कई यूजर्स मीडिया संस्थान को इस पर एक्शन लेने की सलाह देते नजर आ रहे है.

इस वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस नेता संजीव सिंह ने कहा कि अमित शाह जी ने तो ‘डीएनए’ पर ही सवाल उठा दिया. कांग्रेस नेता पीसी शर्मा ने लिखा कि डीएनए में आज रात…ज़ी टीवी की कमेंट्री बंद कराने के फायदे बताए जाएंगे.

इस वीडियो को शेयर करते हुए कांग्रेस नेता अशोक बसोया ने मीडिया संस्थान पर तंज सका, जिस पर प्रतिक्रिया देते हुए पत्रकार स्वाति मिश्रा ने लिखा कि इस देखकर तो गजब बेज्जती है यार वाला मीम्स याद आ गया.

अमित शाह
इमेज सोर्स: गूगल

फिल्ममेकर अविनाश दास लिखते है कि ज़ी टीवी वाले भैया बहुत लेट लिए.. अब बैठ जाओ. तुमसे कुछ नहीं हो रहा..कोई माहौल नहीं बन रहा, अब चुपचाप बैठ जाओ.

यूपी चुनाव के नतीजें दिखा देंगे सच

पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह लिखते है कि चाटुकारिता की दीनता पकाउ हो चुकी हैं, खासकर जब सत्ता अहंकारी हो. इस वीडियो पर कमेंट्स करते हुए प्रभाकर मिश्रा नाम के यूजर ने लिखा कि इसे मनोविज्ञान की भाषा में क्या कहा जाए?

वहीं बलवंत रावत नाम के एक यूजर कमेंट करते हुए लिखते है कि ये इनकी भाषा है, इन्हें किसी का कोई ड’र नहीं हैं. सिर्फ चुनावी मौसम में बाहर आते है और उसके बाद किसी से इन्हें कोई मतलब नहीं रहता.

अखिल नाम के ट्विटर हैंडल ने प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि इतना घमं’ड भी ठीक नहीं है, उत्तर प्रदेश के चुनावी नतीजें आपको सच दिखा देंगे.

About भास्कर राणा

Avatar of भास्कर राणा
भास्कर वरिष्ठ पत्रकार हैं, पिछले 5 वर्षों से विभिन्न न्यूज़ संस्थानों के लिए बतौर लेखक के रूप में अपनी सेवाएं देते हैं. फिलहाल यूसी न्यूज़ हिंदी के लिए एक फ्रीलांसर के रूप में कार्य कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.